Shri Hanuman Ji Ki Aarti in Hindi ॥ श्री हनुमान आरती ॥ Aarti Ki Jai Hanuman Lala Ki

श्री हनुमान जी की आराधना के लिए निम्न आरती (Shri Hanuman ji ki Aarti ) का पाठ करना चाहिए।

 

श्री हनुमान जी की आरती (Shri Hanuman Ji Ki Aarti in Hindi)

 

आरती कीजै हनुमान लला की। दुष्ट दलन रघुनाथ कला की।।
जाके बल से गिरिवर कांपे। रोग दोष जाके निकट न झांके।।

अंजनि पुत्र महाबलदायी। संतान के प्रभु सदा सहाई।।
दे बीरा रघुनाथ पठाए। लंका जारी सिया सुध लाए।।

लंका सो कोट समुद्र सी खाई। जात पवनसुत बार न लाई।।
लंका जारी असुर संहारे। सियारामजी के काज संवारे।।

लक्ष्मण मूर्छित पड़े सकारे। आणि संजीवन प्राण उबारे।।
पैठी पताल तोरि जमकारे। अहिरावण की भुजा उखाड़े।।

बाएं भुजा असुर दल मारे। दाहिने भुजा संतजन तारे।।
सुर-नर-मुनि जन आरती उतारे। जै जै जै हनुमान उचारे।।

कंचन थार कपूर लौ छाई। आरती करत अंजना माई।।
जो हनुमानजी की आरती गावै। बसी बैकुंठ परमपद पावै।।

लंकविध्वंस कीन्ह रघुराई। तुलसीदास प्रभु कीरति गाई।।
आरती कीजै हनुमान लला की। दुष्ट दलन रघुनाथ कला की।।

॥ Hanuman Ji Ki Aarti Ends (Hanuman Chalisa Aarti) ॥

 

Shri Hanuman ji ki Aarti English Lyrics

 

Aarti Ki Jai Hanuman Lala Ki, Dushat Dalan Ragunath Kala Ki.

Ja Ke Bal Se Giriver Kaanpe, Rog Dosh Ja Ke Nikat Na Jaanke.

 

Anjani Putra Mahabaldaye, Santan Ke Prabhu Sada Sahaye.

De Beeraha Raghunath Pathai, Lanka Jaari Siya Sudhi Laiye.

 

Lanka So Kot Samundra Se Khaiy, Jaat Pavan Sut Baar Na Laiye.

Lanka Jaari Asur Sab Maare, Siya Ramji Ke Kaaj Sanvare.

 

Lakshman Moorchit Parhe Sakare, Aan Sajeevan Pran Ubhaare.

Paith Pataal Tori Yamkare, Ahiravan Ke Bhuja Ukhaare.

 

Baayen Bhuja Asur Dal Mare, Daayen Bhuja Sab Santa Jana Tare.

Surnar Munijan Aarti Utare, Jai Jai Jai Hanuman Uchaare.

 

Kanchan Thaar Kapoor Lo Chhai, Aarti Karat Aajani Mai.

Jo Hanumanji Ki Aarti Gaave, Basi Baikuntha Amar Padh Pave.

 

Lanka Vidvance Kiye Ragurai, Tulsidas Swami Aarti Gaaie.

Aarti Ki Jai Hanuman Lala Ki, Dushat Dalan Ragunath Kala Ki.

॥Shri Hanuman Ji Ki Aarti Ends (Hanuman Chalisa Aarti)

 

इसे भी पढें- श्री हनुमान चालीसा (अर्थ सहित) Hanuman Chalisa Aarti

 

100 से अधिक आरतीयाँचालीसायें, दैनिक नित्य कर्म विधि जैसे- प्रातः स्मरण मंत्र, शौच विधि, दातुन विधि, स्नान विधि, दैनिक पूजा विधि, त्यौहार पूजन विधि आदि, आराध्य देवी-देवतओ की स्तुति, मंत्र और पूजा विधि, सम्पूर्ण दुर्गासप्तशती, गीता का सार, व्रत कथायें एवं व्रत विधि, हिंदू पंचांग पर आधारित तिथियों, व्रत-त्योहारों जैसे हिंदू धर्म-कर्म की जानकारियों के लिए अभी डाउनलोड करें प्रभु दर्शन ऐप।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *