मसालों के साथ औषधीय गुण भी रखती है काली मिर्च, जानें इसके फायदें

सभी के घरों में मसालों की अनेक वैरायटी होती है, उनमें से एक है काली मिर्च। काली मिर्च को तो सभी लोग उपयोग में लाते ही है, लेकिन क्या आपको पता है कि यह काली मिर्च मसालों के साथ-साथ औषधीय रूप में भी हमारे लिए बहुत उपयोगी है। ऐसा भी माना जाता है कि काली मिर्च ‘मसालों की रानी’ है। किसी भी सब्जी में काली मिर्च उसके स्वाद को और बढ़ा देती है। इसीलिए यह सभी के किचन में उपलब्ध होती है। काली मिर्च का संयमित रूप से सेवन करने से यह शरीर के लिए बहुत फायदेमंद है। जिसके चलते हम अपने शरीर में उत्पन्न होने वाली कई बीमारियों से निजात पा सकते हैं। इसीलिए आयुर्वेद में इसे औषधि भी कहा गया है।

स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है काली मिर्च (Black Pepper)

अक्सर लोग काली मिर्च का उपयोग खाने में स्वाद को बढ़ाने के लिए करते हैं, लेकिन हम आपको बता दें कि काली मिर्च खाने में केवल स्वाद ही नहीं बढ़ाता, बल्कि यह स्वास्थ्य के लिए भी बेहद फायदेमंद है। काली मिर्च में पेपराइन नामक एक रसायन पाया जाता है, जो इसे स्वाद में तीखापन प्रदान करता है। काली मिर्च में पाचन को सुधार करने की शक्ति शामिल है। यह एंटीऑक्सीडेंट का भी कार्य करता है। यह बॉडी मेटाबॉलिज्म से उत्पन्न हुई ऑक्सीडेटिव से छुटकारा दिलाने में भी सहायता करती है।

इसे भी पढें-  काली मिर्च की खेती ने इस किसान को ना सिर्फ किया मालामाल, बल्कि दिलाया पद्मश्री सम्मान

काली मिर्च के अनेक है औषधीय गुण

वैसे तो काली मिर्च के बहुत अधिक औषधीय फायदे है, लेकिन इस लेख में हम आपको मुख्य फायदों के बारे में बताएंगे। सबसे पहले तो हम यह जान लेते हैं कि काली मिर्च है क्या? यह एक मसाला है जिसे औषधि के रूप में भी उपयोग किया जाता है, जो थोड़ी छोटी, काले रंग की, गोल आकृति की होती है। जो खाने में काफी तीखी होती है। अगर इसके पौधे की बात की जाए तो इसकी लता होती है। जो काफी लंबे समय तक जीवंत रहती है। इनकी पत्तियां पान के पत्तों के समान होती है। काली मिर्च की लता से 1 साल में दो बार उपज उपलब्ध हो जाती है।

ठंड में सबसे अधिक होता है उपयोग

काली मिर्च को अनेक नाम से जाना जाता है। जिसे हर क्षेत्र में अलग नाम से पुकारा जाता है। इसका वैज्ञानिक नाम पाइपर निग्रेम एल है। जिसका सामान्य नाम काली मिर्च है। जबकि इसे संस्कृत में मरिच उष्ण कहा जाता है। काली मिर्च की औषधि लाभ की बात की जाए तो इसके कई लाभ है, जो सामान्यतः सभी के घरों में उपयोग की जाती है। लेकिन इसका सबसे ज्यादा उपयोग ठंड के दिनों में किया जाता है। जिससे सर्दी, गले की खराश आदि से छुटकारा मिलता है। खांसी और बुखार होने पर इसका सेवन किया जाता है, जिससे शरीर को काफी लाभ पहुंचता है। साथ ही काली मिर्च शरीर के अन्य कई समस्याओं से भी निजात दिलाता है।

सिर दर्द में लाभदायक है काली मिर्च (Kali Mirch)

काली मिर्च का सेवन करने से सिर दर्द दूर होता है। जिसके लिए एक काली मिर्च लेकर उसे आग में जलते तक भूने, और उस काली मिर्च को जलाने के दौरान जो भी धुंआ निकलेगा, उसे सूंघ ले। ऐसा करने से सिर दर्द में राहत मिलेगी। इसका दूसरा तरीका यह है कि काली मिर्च को चावल या भृंगराज के रस के साथ पीसकर मिला लें और इसका एक पेस्ट तैयार कर ले, फिर उसी पेस्ट को अपने सिर पर लगाए। इससे भी आपको सिर दर्द में राहत महसूस होगी।

काली मिर्च पाचन क्रिया में है लाभप्रद

काली मिर्च का सेवन पाचन शक्ति को बढ़ाता है, क्योंकि काली मिर्च टेस्ट बर्ड्स को सक्रिय करता है, जिससे हमारे शरीर में हाइड्रोक्लोरिक एसिड का निर्माण होता है, जो पाचन शक्ति को बढ़ाता है। ज्यादातर लोग यह समझते हैं कि काली मिर्च का अधिक सेवन करना सेहत के लिए हानिकारक होता है, लेकिन इसे संयमित रूप में लिया जाए तो यह शरीर के लिए लाभदायक साबित हो सकता है। वहीं ऐसा भी मानते है कि हाइड्रोक्लोरिक एसिड का अधिक स्त्राव शरीर के पाचन क्रिया को बिगाड़ देती है, पर ऐसा नहीं है। क्योंकि हाइड्रोक्लोरिक एसिड की मात्रा शरीर में कम होने पर ही पाचन की समस्या उत्पन्न होती है। काली मिर्च का सेवन करने से यह हमारे शरीर में पेट फूलना, पेट में बनने वाले गैस, अपच जैसी कई समस्याओं से निजात दिलाता है।

इसे भी पढें-  Oyster Mushrooms: जानिये सेहत के लिए कितना फायदेमंद है यह मशरुम

आंखों की बीमारी दूर करने में मददगार है काली मिर्च

• बहुत कम लोग ही यह जानते होंगे कि काली मिर्च आंखों की बीमारी को दूर करने में भी बेहद फायदेमंद है। जी हां काली मिर्च को पीसकर दही के साथ मिलाकर आंखों में काजल की भांति लगाने पर यह रतौंधी नामक बीमारी से निजात दिला सकता है, लेकिन इस दौरान इस बात का ध्यान रखें कि यह बाहरी हिस्सों में ही लगाए। इसे लगाते वक्त अत्यधिक सावधानी बरतनी होती है।

• यदि आप प्रतिदिन सुबह आधा से 1 ग्राम काली मिर्च को पीसकर उसमें एक चम्मच घी और शक्कर मिलाकर सेवन करें और फिर उसके बाद दूध पी लें, तो इससे भी आंखों की रोशनी बढ़ती है।

• कई बार आंखों के ऊपर यानी पलक पर फुंसी हो जाती है। इस स्थिति में हमें समझ नहीं आता कि हम क्या उपाय करें। इसके लिए भी काली मिर्च बहुत फायदेमंद है। जिसके लिए काली मिर्च को पानी में घिसकर लगाए, इससे फुंसी पककर फूट जाएगी।

• वही आंखों की बीमारी को दूर करने के लिए एक चम्मच देशी घी में आधा ग्राम काली मिर्च को पीसकर मिला लें और फिर इसका सेवन करें।

काली मिर्च का ऐसे करें उपयोग, दांतों के दर्द से मिलेगी निजात

• इन दिनों बच्चे हो या बूढ़े सभी के दांतो में दर्द हो जाता है। इसके लिए काली मिर्च का उपयोग करें, जो दांत के दर्द में आराम दिलाएगा। सबसे पहले 2 ग्राम काली मिर्च का पाउडर बना लें और इसे जामुन या अमरूद के तीन से चार पत्तों के साथ मिलाकर पीस लें। फिर इसी पेस्ट से कुल्ला करें। ऐसा करने से दांतों के दर्द में आराम मिलेगा।

• वहीं मुंह के अंदर छाले हो जाते हैं, जिसके लिए काली मिर्च को सेंधा नमक, शहद व नींबू के रस में मिलाकर अपने जीभ पर लगा ले, इससे मुंह में हुए छाले से जल्द निजात मिलेगी।

काली मिर्च का सेवन करने से बढ़ती है भूख

काली मिर्च को मसाले के रूप में उपयोग करने का एक सबसे बड़ा कारण यह है कि यह पाचन शक्ति को बढ़ाती है। जिससे हमारे शरीर में भूख बढ़ती है। ऐसा कहा जा सकता है कि काली मिर्च शरीर में भूख बढ़ाने के लिए मददगार है।

वजन कम करने में लाभदायक है काली मिर्च

यह तो सभी जानते हैं कि काली मिर्च शरीर में भूख उत्पन्न करती है, लेकिन क्या आपको यह पता है कि यह आपके वजन को भी कम करने में बेहद लाभदायक हो सकता है। जी हां हम काली मिर्च की ही बात कर रहे हैं, जिसकी बाहरी परत में फायटोन्यूट्रिएंट्स पाया जाता है, शरीर में उत्पन्न होने वाली वसा कोशिकाओं को अलग करती है। जिससे हमारे शरीर के कैलोरीज को बर्न करने में सहायता मिलती है।

इसके अलावा और कई तरह की बीमारियों में काली मिर्च लाभदायक है, जैसे-

• पेट से संबंधित बीमारियों में लाभप्रद है।
• बवासीर होने पर इसका सेवन करने से राहत मिलता है।
• दस्त में लाभदायक है।
• पेशाब से संबंधित कोई भी समस्या होने पर काली मिर्च का सेवन फायदेमंद है।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *