Earth Day: विश्व भर में आज मनाया जा रहा अर्थ डे, Restore our Earth है इस साल की थीम

आज दुनिया भर में अर्थ डे (Earth Day) मनाया जा रहा है। पर्यावरण संरक्षण के लिहाज से अर्थ डे (Earth Day) की शुरुआत 22 अप्रैल 1970 को की गई थी, जिसके बाद से 193 देशों में इस दिवस को वार्षिक आयोजन (Annual event) के तहत मनाया जाता है। आज के दिन की महत्वता इस बात से भी लगाई जा सकती है कि इस दिवस को मनाने की शुरुआत एक दो दिन पहले से ही हो जाती हैं। अर्थ डे (Earth Day) की शुरुआत अमेरिकी सीनेटर जॉर्डन ने लोगों को पर्यावरण शिक्षा (Environmental Education) देने के लिए की थी। गौरतलब है कि हर तरह की सुख सुविधाएं और संसाधन जुटाने की होड़ में आज पूरी दुनिया ग्लोबल वार्मिंग (Global Warming) की समस्या से जूझ रही है। मानवीय क्रियाकलापों (Activities) द्वारा पृथ्वी बीमार सी हो गई है, जिसके संरक्षण को लेकर और लोगों में इसके संरक्षण को लेकर जागरूकता फैलाने के तहत पृथ्वी का बचाने का संकल्प लिया जाता है।

इसे भी पढें- Scraps: जानिए किन सब्जियों की होती है scraps framing

अर्थ डे (Earth Day) पर लोग होते है पृथ्वी से जुड़े पर्यावरण की चुनौतियां को लेकर जागरूक

बीते कई सालों से पर्यावरण में परिवर्तन को देखते हुए अर्थ डे (Earth Day) मनाने के लोकप्रिता में काफी बढ़त देखने को मिली है और हर साल अलग-अलग थीम के साथ इस दिवस को मनाया जाता है। साल दर साल जल और वायु में हो रहे परिवर्तन को देखते हुए कई दुष्परिणाम सामने आ रहे हैं, जिसको देख अब मानव को भी अर्थ के स्वाथ्य की चिंता सताने लगी है और इसी के चलते अर्थ को बचाने के इस संकल्प पर ज्यादा से ज्यादा जोर दिया जा रहा है । अर्थ डे एक ऐसा मौका माना जाता है जहां करोड़ों की तादात में लोग मिलकर पृथ्वी से जुड़े पर्यावरण की चुनौतियां (Environmental challenges) के बारे में जागरूक होते है और इसका समाधान निकालने के जनतो जहद में जुट जाते है। हर साल की तरह इस साल भी अर्थ डे (Earth Day) की थीम रखी गई है, इस कोरोनावायरस काल (Corona Virus Period) में ‘पृथ्वी को फिर से अच्छी अवस्था में बहाल करना हैै यानि कि ‘Restore our Earth’ ये थीम रखी गई है, साथ ही हरित तकनीकों (Green technologies) और प्राकृतिक प्रक्रियाओ पर जोर दिया जाएगा जो दुनिया की परिस्थिति तंत्र को दोबारा कायम करने में मददगार साबित होगी।

इस थीम के साथ मनाया जाएगा इस साल का अर्थ डे

कोरोना काल (Corona Period) के चलते इस इवेंट को तीन फेस में मनाया जा रहा है जो 20 अप्रैल से शुरू हो गया है। कोरोना काल में बिगड़ती हुई स्थितियों को देखते हुए कार्यक्रम के मुद्दों को डिटेल में समझाने की प्लानिंग की गई है। कोविड-19 के कारण मचे हाहाकार ने पर्यावरण की अहमियत को और बढ़ा दिया है। इस साल मनाए जाने वाले अर्थ डे के कार्यक्रम में पर्यावरण साक्षरता (Environmental literacy), जलवायु (Climate), जलवायु की तकनीकों से बहाली, वनीकरण (Afforestation) के प्रयासों में तेजी लाना, समानता और पर्यावरण न्याय, साफ सफाई, नागरिक विज्ञान जैसे मुद्दों पर ज्यादा फोकस किया जाएगा। इस साल अर्थडे (Earth Day) को मनाने के लिए स्नैपचैट और व्हाट्सएप जैसे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म का भी इस्तेमाल किया गया है। स्नैपशॉट को खोलने के बाद अर्थ डे सर्च करना होगा और एआर लेंस को शेयर करना होगा, ऐसा करने से बिटमोजी के जरिए आप दोस्तों रिश्तेदारों को अर्थडे (Happy Earth Day) की बधाई दे सकते हैं। वही व्हाट्सएप द्वारा भी अर्थ डे (Earth Day) के मौके पर एक नया स्टिकर पैक जारी किया गया है, जिसका नाम स्टैंडर्ड फॉर अर्थ है। इस पैक में वह सारी पर्यावरण से संबंधित समस्याएं हैं जिसे आज पूरी दुनिया झेल रही है। वही गूगल भी अपने डूडल के जरिए पृथ्वी दिवस मना रहा है। गूगल द्वारा पर्यावरण का डूडल तैयार किया गया है, जिसके जरिए वह लोगों को अर्थ की खुशहाली के प्रति जागरूक करने की कोशिश कर रहा है और वृक्षारोपण कर ज्यादा से ज्यादा पेड़ों को लगाने के लिए प्रोत्साहित कर रहा है। इसके साथ ही पेड़ पौधों का महत्व समझाने की कोशिश की जा रही है। गूगल के इस डूडल वीडियो में इस बात पर प्रकाश डाला गया है कि कैसे एक बीज से जो पेड़ उगाया जाता है जो एक उज्जवल भविष्य में तब्दील हो जाता है।

एक समय पर दो दिन मनाया जाता था अर्थ जे, जाने इतिहास

हर साल संयुक्त राष्ट्र (United Nations) में पृथ्वी दिवस मार्च एक्विनोक्स के समय मनाया जाता है, यह वह समय कहलाता है जब दिन और रात बराबर होते हैं और यह दिन 21 मार्च से पहले होता है। इस परंपरा की शुरुआत शांति कार्यकर्ता जॉन मक्कोनेल ने की थी। लोगों को पर्यावरण के प्रति संवेदनशील बनाने के लिए 22 अप्रैल 1970 को वैश्विक स्तर (Global Level) पर पहली बार पृथ्वी दिवस मनाया गया, तभी से हर साल 22 अप्रैल को यह दिवस मनाने की परंपरा शुरू हो गई। गौरतलब है कि पहले हर साल 2 बार पृथ्वी दिवस मनाया जाता था, एक 21 मार्च को और एक 22 अप्रैल को, लेकिन सन 1970 के बाद यह दिवस 22 अप्रैल को ही मनाया जाने लगा। दरअसल 21 मार्च को मनाया जाने वाला पृथ्वी दिवस उत्तरी गोलार्द्घ के बसंत और दक्षिणी गोलार्द्घ के पतझड़ के प्रतीक के रूप में मनाया जाता था। आज इस दिन पृथ्वी दिवस मनाने को लेकर संयुक्त राष्ट्र का ही समर्थन था। 21 मार्च को मनाए जाने वाला अर्थ डे (Earth Day) का वैज्ञानिक और पर्यावरणीय महत्व होता था पर जो पृथ्वी दिवस 22 अप्रैल को मनाया जाता है उसका पूरे विश्व में राजनीतिक और सामाजिक महत्व है।

इसे भी पढें-   Sugar: जानिए शरीर के लिए कितना लाभदायक है

अमेरिका में आज के दिन मनाया जाता है ‘ट्री डे’

ये भी माना जाता है कि पर्यावरण को राष्ट्रीय अजेंडा (National agenda)  में जोड़ने के लिए सिनिस्टर नेल्सन ने सबसे पहले राष्ट्रव्यापी पर्यावरण विरोध की प्रस्तावना दी थी, जिसके बाद फेमस फिल्म और टेलीविजन अभिनेता एडलबर्ट ने पृथ्वी दिवस के निर्माण में काफी अहम भूमिका निभाई थी। पर्यावरण सक्रियता के मद्देनजर इस वार्षिक घटना का निर्माण करने के लिए अल्बर्ट ने बहुत ही जरूरी और प्राथमिक काम किए, जिसे उन्होंने अपने पूरे कार्यकाल के दौरान अपना समर्थन दिया। बताया जाता है कि पृथ्वी दिवस को 1970 के बाद अल्बर्ट के जन्म दिवस 22 अप्रैल को मनाने का फैसला लिया गया। बता दें कि अमेरिका में 22 अप्रैल को ट्री डे (Tree Day) के रुप में मनाया जाता है, जिसे फादर ऑफ अर्थ डे (Father of Earth Day) कहा जाता है। यह दुनिया का सबसे बड़ा जन जागरूकता आंदोलन (Awareness movement) बताया जाता है। इस आंदोलन में कई देशों के अरबों नागरिक हिस्सा लेते हैं और इस दिन सभी लोगों को पृथ्वी के संरक्षण के लिए संकल्प दिलाया जाता है। बता दें कि आज के दिन जहां नोर्थ पॉल में वसंत का मौसम होता है वही साउथ पोल में शरद का मौसम होता है।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *