Surya Bhagwan Ki Aarti : श्री सूर्यदेव की आरती ॥ Om Jai Surya Bhagwan

श्री सूर्य देव की आराधना के लिए निम्न आरती (Surya Bhagwan Ki Aarti, Surya Dev Ki Aarti) करनी चाहिए। सूर्य देव की आरती (Surya Bhagwan Ki Aarti, Surya Dev Ki Aarti) करने से सूर्य देव की सदैव कृपा बनी रहती है।

 

श्री सूर्यदेव की आरती (Surya Bhagwan ki Aarti in Hindi)

 

ऊँ जय सूर्य भगवान, जय हो दिनकर भगवान।
जगत् के नेत्र स्वरूपा, तुम हो त्रिगुण स्वरूपा।
धरत सब ही तव ध्यान, ऊँ जय सूर्य भगवान॥
॥ ऊँ जय सूर्य भगवान…॥

सारथी अरूण हैं प्रभु तुम, श्वेत कमलधारी। तुम चार भुजाधारी॥
अश्व हैं सात तुम्हारे, कोटी किरण पसारे। तुम हो देव महान॥
॥ ऊँ जय सूर्य भगवान…॥

ऊषाकाल में जब तुम, उदयाचल आते। सब तब दर्शन पाते॥
फैलाते उजियारा, जागता तब जग सारा। करे सब तब गुणगान॥
॥ ऊँ जय सूर्य भगवान…॥

संध्या में भुवनेश्वर अस्ताचल जाते। गोधन तब घर आते॥
गोधुली बेला में, हर घर हर आंगन में। हो तव महिमा गान॥
॥ ऊँ जय सूर्य भगवान…॥

देव दनुज नर नारी, ऋषि मुनिवर भजते। आदित्य हृदय जपते॥
स्त्रोत ये मंगलकारी, इसकी है रचना न्यारी। दे नव जीवनदान॥
॥ ऊँ जय सूर्य भगवान…॥

तुम हो त्रिकाल रचियता, तुम जग के आधार। महिमा तब अपरम्पार॥
प्राणों का सिंचन करके भक्तों को अपने देते। बल बृद्धि और ज्ञान॥
॥ ऊँ जय सूर्य भगवान…॥

भूचर जल चर खेचर, सब के हो प्राण तुम्हीं। सब जीवों के प्राण तुम्हीं॥
वेद पुराण बखाने, धर्म सभी तुम्हें माने। तुम ही सर्व शक्तिमान॥
॥ ऊँ जय सूर्य भगवान…॥

पूजन करती दिशाएं, पूजे दश दिक्पाल। तुम भुवनों के प्रतिपाल॥
ऋतुएं तुम्हारी दासी, तुम शाश्वत अविनाशी। शुभकारी अंशुमान॥
॥ ऊँ जय सूर्य भगवान…॥

ऊँ जय सूर्य भगवान, जय हो दिनकर भगवान।
जगत के नेत्र रूवरूपा, तुम हो त्रिगुण स्वरूपा॥
धरत सब ही तव ध्यान, ऊँ जय सूर्य भगवान॥

 

॥ Surya Bhagwan Ki Aarti Ends (Jai Surya Dev) ॥

 

Surya Bhagwan Ki Aarti
Surya Bhagwan Ki Aarti

 

Surya Bhagwan ki Aarti, Surya Dev Ki Aarti in English  – Lyrics 

 

Om Jai Surya Bhagwan, Jai Ho Dinkar Bhagwan।
Jagat Ke Netra Swaroopa, Tum Ho Triguna Swaroopa।
Dharat Saba Hi Tab Dhyan, Om Jai Surya Bhagwan॥
॥ Om Jai Surya Bhagwan…॥

Sarathi Arun Hai Prabhu Tum, Shwet Kamaladhari। Tum Char Bhuja Dhari॥
Ashwa Hai Sath Tumharey, Koti Kirana Pasarey। Tum Ho Dev Mahan॥
॥ Om Jai Surya Bhagwan…॥

Usha Kal Mein Jab Tum, Udayachal Aate। Sab Tab Darshan Patey॥
Phailatey Ujiyara, Jagata Tab Jag Sara। Karke Sab Tab Gungan॥
॥ Om Jai Surya Bhagwan…॥

Sandhya Mein Bhuvaneshvar, Astachal Jate। Godhan Tab Ghar Aate॥
Godhuli Bela Mein, Har Ghar Har Angan Main। Ho Tav Mahima Gaan॥
॥ Om Jai Surya Bhagwan…॥

Dev Danuj Nar Naari, Rishi Munivar Bhajate। Aditya Hriday Japate॥
Strot Ye Mangalakari, Isaki Hai Rachana Nyari। De Nav Jeevanadan॥
॥ Om Jai Surya Bhagwan…॥

Tum Ho Trikal Rachiyata, Tum Jag Ke Adhar। Mahima Tab Aparampar॥
Pranon Ka Sinchan Karake, Bhakton Ko Apane Dete। Bal Braddhi Aur Gyan॥
॥ Om Jai Surya Bhagwan…॥

Bhoochar Jalchar Khechar, Sab Ke Ho Pran Tumhi। Sab Jeevo Ke Pran Tumhi॥
Ved Puran Bhakhane, Dharm Sabhi Tumhen Maney। Tum Hi Sarv Shaktiman॥
॥ Om Jai Surya Bhagwan…॥

Pujan Karti Dishayein, Pujey Sabdikpal। Tum Bhuvno Ke Pratipal॥
Rituyain Tumhari Dasi, Tum Shashta Avinashi। Shubhkari Anshuman॥
॥ Om Jai Surya Bhagwan…॥

Om Jai Surya Bhagwan, Jai Ho Dinkar Bhagwan।
Jagat Ke Netra Swaroopa, Tum Ho Triguna Swaroopa।
Dharat Saba Hi Tab Dhyan, Om Jai Surya Bhagwan॥
॥ Om Jai Surya Bhagwan…॥

॥Surya Bhagwan Ki Aarti Ends (Jai Surya Dev)

 

इसे भी पढें- श्री सूर्य चालीसा (अर्थ सहित)

 

यदि आप चाहे तो श्री सूर्य देव की आरती (Surya Bhagwan Ki Aarti, Surya Dev Ki Aarti) के लिए Prabhu Darshan मोबाईल ऐप डाउनलोड कर सकते है और जब कभी आपको जाप करने का मन करे तो आप बिना इंटरनेट कनेक्शन के भी पूजा पाठ कर सकते हैं।

 

Prabhu Darshan- 100 से अधिक आरतीयाँचालीसायें, दैनिक नित्य कर्म विधि जैसे- प्रातः स्मरण मंत्र, शौच विधि, दातुन विधि, स्नान विधि, दैनिक पूजा विधि, त्यौहार पूजन विधि आदि, आराध्य देवी-देवतओ की स्तुति, मंत्र और पूजा विधि, सम्पूर्ण दुर्गासप्तशती, गीता का सार, व्रत कथायें एवं व्रत विधि, हिंदू पंचांग पर आधारित तिथियों, व्रत-त्योहारों जैसे हिंदू धर्म-कर्म की जानकारियों के लिए अभी डाउनलोड करें प्रभु दर्शन ऐप।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *